kolkata one day city tour

Kolkata one day city tour , यदि आप एक दिन कोलकाता घूमना चहेते हो तो आप सब जगह घूम नही पाएंगे. कोलकाता एक बड़ा सहर हा. यह पछिम बंगाल की मुख्य दौर हा. कोलकाता में आपको बहुत भासा बोलनेवाला लोग मिल जायेगा और सब कोई एकसाथ खुसिया से रहेते हा. कोलकाता एक जनबहुल सहर हा इस लिए यह सहर हमेशा भीड़ भरा होता हा. एहा की लोग खाना और घूमना बहती पसंद करते हा. इस लिए एहा फूटपाथ में भी कई तरह की खाना के होटल और रेस्तुरांत मिल जायेगा. यह ऐसा जगह हा, जहा पॉकेट में पैसा रहेगा तो सब कुछ मिल जायेगा. ईसी लिए ये सहर को City Of Joy भी कहेते हा.

कोलकाता हमारे देश को कए स्सरे गुनी मानब प्रदान किया हा, और ये आज के बातनही , ऐसा इंगरेज की जमने से चलते आरहा रे. यह सहर कई गुनी संगीत शिल्पी, नित्य शिल्पी, फ्लिम मेकर, सधिनाता संग्रामी की लिया जाना जाता हा. एहा की सबसे बड़ा तेवहार हा दुर्गा पूजा. और इस पूजा में सभी धरम के लोग सामिल होता हा.

कोलकाता जनप्रिय हा इसके कुछ पुराने जगह के लिए. यह सब जगह हर भारतीय एक बार जरुर घूमके देखना चहेते हा. उनमे से कुछ जगह के वारे में आज में बिस्तृत जानकारी देनेवाला हु. तो चलिए सुरु करते हा.

Kolkata one day city tour कैसे करे?

आपको कोलकाता आने के वाद कोलकाता घुमने के लिए बहुत सरे Kolkata city tour package wbtdc मिल जायेगा. यह Kolkata city tour west bengal tourism की एक बेहत ही खास ट्रिप हा. यह ट्रिप के लिएकोल कई सरे Kolkata city tour operators मिल जायेगा. इस टूर ओपरटर की मदत से आप कम समय में जायदा घूम सकते हो. Kolkata city tour itinerary के बारे में निचे बिस्तृत रूप से बताया गया हा.

Kolkata one day city tour करने के लिए आप एक कैब बुक कर सकते हा . नही तो आप Kolkata city tour bus से भी कर सकते हा. मगर बस से इतना जगह घूमना थोडा मुस्किल हो जायेगा.

Places to visit in Kolkata | Kolkata one day city tour में कहा घुमे?

Kolkata one day city tour में कुछ मुख जगह के जानकारी निचे प्रदान किया गया हा .

Dakshineshwar Kali Temple

Kolkata city tour में यह जगह पहेले स्यथान में आते हा. इस मंदिर कोलकाता की पुराने मंदिरों में से एक हा. यह मंदिर रानी रासमणि द्वारा १८५५ सताब्दी में स्तापित किया गया था. यह मंदिर १०० फीट से भी जायदा उचा हा. यह कोलकाता की उतारी भाग में हूगली नदी के किनारे बना हुआ हा. मुख मंदिर चोर के भी येह और छोटे छोटे १२ मंदिर हा. यह एक कलि माता जी की मंदिर हा.

रोज सुबह और शाम को येह आरती ही किया जाता हा. यह मंदिर के साथ एक छोटा सा बगीचा भी हा और इस बगीचा में पुराने ५ पेड़ अभी भी हा. कहा जाता हा की एक समय इस मंदिर की पुजारी श्री रामकृष्ण देव धयान करते थे. शाम को इस मंदिर की घाट से विद्या सागर सेतु और हाबड़ा ब्रिज की खूबसूरती नजर आता हा.

Belur Math Ramkrishna Mission

बेलूर मैथ एक राम कृष्णा मिशन हा. यह हाबड़ा जिला में परता हा, मगर कोलकाता से काफी निज्दिक हा, इस लिए हमने यह जगह भी अपना टूर के साथ सामिल किया. यह जगह हूगली नदी के किनारे ४० एकर से भी जायदा जगह में पहेला हुआ हा. सन १९३८ में स्वामी विवेकानंदा दुआर गिया यह  मिशन पूरा रामकृष्ण मिशन के मुखालय हा. एहा रामकृष्ण देव जी की मंदिर आना हुआ हा. यह मंदिर हिन्दू, मुस्लिम, खिस्ट धर्मोको मदे नज्राते हुए पुराने करुकार्य का मिश्रण हा.

येह यह मंदिर के साथ कई सरे स्कूल और कॉलेज भी देखने को मिल जायेगा. सालभर पुरे दुनिया से पर्यटक भीड़ लगते हा एहा. आप भी जब कोलकाता घुमने आयेंगे यह जगह जरुर एकबार गुमिये गा.  

Mother Teresa’s Home

यह जगह बहती संबेन्दंशील जगह हा. यह घर मदर तेरेशा दोवारा सन १९५० में बनाया गिया था. यह स्थान गरीब और दुस्त लोगो की सेवा के लिए बनाया गया था. मदर तेरेस्सा की मरने के बाद भी यह पुराने जैसा सेवा में लगा हुआ हा. येह ४५०० के उपोर बहेने हा जो किना यह सब कम करते रहेते हा. आज के दिन में इस हाउस का कई सरे शाखा पुरे बिशो में पहेला हुआ हा. एहा एक स्कूल भी हा, जहा बिलकुल मुक्त में शिक्षा प्रदान किया जाता हा. यह सब चोर के येह मदर टेरेसा की समाधी स्थल और उनके कुछ सामान आज भी सु सजित करके रखा गिया हा.

Howrah Bridge

kolkata one day city tour

Howrah Bridge कोलकाता की सबसे खास जगह हा. सन १९३५ में यह ब्रिज बनाया गया था. उसके बाद से ही यह ब्रिज मनाबजती के सेवा में लगा हुआ हा. यह बिद्गे एक लोहे का स्तुक्टुरे के उपोर स्तिथ हा. यह बिशो की चटवा लम्बा कन्तिलेबेर ब्रिज हा. यह ब्रिज हाबड़ा और कोलकाता को जोरने वाला ससे पुराने ब्रिज हा. सन १९६५ के बाद इस ब्रिज का नाम बदल के रबिन्द्र सेतु रखा गया था. मगर आज भी यह हाबड़ा ब्रिज के नाम से ही जनप्रिय हा. शाम को हाबड़ा बिर्द्गे के लाइट आपका मों को जरुर खुश कर देगी.

St.John’s Church

यह चर्च सन१७८७ में वारेन हास्टिंग और विलिअम जोंसन द्वारा बनाया गया कोलकाता की तीसरे पुराना चर्च हा. यह जगह चिर्स्त मास के समय जायदा अच्छा लगता हा. एहा Job Charnock’s की एक बड़ा वाला मूर्ति भी देखनेको मिल जायेगा. इनोने सन १६८६ में कोलकाता सहर की स्थापना किया था.

Marble Palace

यह भवन सन १८३५ में एक प्रशिध बंगाली बेबसाई रजा राजेंद्र मल्लिच्क द्वारा बनायागाया महल हा. यह महल रजा अपने वास भवन के लिए बेबोहर करते थे. दो मंजिल का यह भवन सफ़ेद मार्बल से करुकार्य किया गया था. येह घर आज भी वैसा ही हा जैसा रजा बेबोहर करते थे.

एहा रजा और उनके परिवार का इस्तेमाल किया गया सब समन आज भी सुसजित हा. यह महल के साथ एहा एक छोटा सा चिड़ियाघर भी मजुत हा. येह आपको कई सरे प्रजाति की पक्षी और पुशु देखने को इल जाता हा. कहा जाता हा की यह चिड़िया घर भारत की सबसे पहेले स्थापन किया गया चिड़ियाघर हा.

Victoria Memorial

यह कोलकाता की सबसे जनप्रिय स्थान हा. विक्टोरिया मेरिअल हॉल कोलकाता की बीचो बिच सन १९०६ में स्थापन किया गया था. यह जगह ६४ एकर से भी अधिक स्थानों में पहेला हुआ हा. एक समय रानी विक्टोरिया ईसी महल से भारत को परिचालित करते थे.

यह भवन लार्ड कर्जन द्वारा बनाया गया था. आज भी एहा पुरुने राजाओ की सामान और युध अस्त्र देखने को मिल जाता हा. यह छोड़ के भी यह भवन के आस पास एक बेहत खुबसूरत बगीचा बनाया गया था. यह बगीचा आज भी ओइसा ही पाया जाता हा. आजकल यह जगह काफी जनप्रिय हो गया हा. यह जगह एक पिकनिक स्पॉट के हिसाब से भी जनप्रिय हो गया हा.

Birla Planetarium

Birla Planetarium कोलकाता की अक अस्चर्यामाय जगह हा. सन १९६३ में जबहरलाल नेहेरू द्वारा बनाया गया था यह Planetarium भारत की खास तिन Planetarium में एक हा. यह जगह छोटे बचो के लिए बहती खुसुरत और शिक्सनिया स्थान हा. एहा आपको पुराने जमने में बेबोहर किया गया जोतिस बिगन का सामान हा.एहा महाकाश के बारे में बताने के लिए एक शो भी होता हा. येह महक्श्चारी का तस्बीर, मॉडल और उन्सबका बेबोहर करने वाला सामान भी देखने को मिल जाता हा.

Kalighat Temple

kalighat पछिम बंगाल की पुराने मंदिर में एक हा. यह मंदिर हूगली नदी से निकला हुआ एक आदि गंगा नामक खल के किनारे स्तापित हा. कहा जाता हा की ईसी मंदिर के नाम से ही Kolkata की नाम कारन किया गया था. हिन्दू धर्मियों के लिए यह मंदिर एक पबित्र स्तन हा.

Jorasanko Thakurbari

जोड़ा संको ठाकुरदी भारत का जनप्रिय साहितिक Rabindra nath Tagore की जन्म भूमि हा. एहा पे ही ठाकुर साहब अपना बचपना बिताया थे. एहा अपलोगो को उनका पुराना वासभूमि, पूराने कपडे, किताब और कुछ चिट्ठी देखने को मिल जायेगा.

उपोर जानकारी दिया गया जगायो की घुमने की समय

Dakhineshwar Kali Temple : सुबह ७.३० से लेकर के रात के ९ बजे तक.

Belur Math  : सुबह ६ से लेकर के रात के ९ बजे तक.

Mother Teresa Home : सुबह ७.३० से लेकर के रात के ९ बजे तक

Howrah Bridge : सुबह ९.३०  से लेकर के रात के ७ बजे तक

St.John’s Church :  सुबह ८.३० से लेकर के रात के ५.३० बजे तक

Marble Palace  : सुबह १० से लेकर के रात के ५.३० बजे तक

Victoria Memorial   :  सुबह ५ से लेकर के रात के ६ बजे तक

Birla Planetarium   :  सुबह ७.३० से लेकर के रात के ८ बजे तक

Kalighat Temple  :  सुबह के ५ बजे से दोपहर का २ अजे तक और शाम ५ बजे से रात १०.३० बजे तक.

मंदिर एक पबित्र स्तन हा.

Jorasanko Thakurbari : सुबह १०.३० से लेकर के रात के५बजे तक

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *